Friday, December 2, 2022
spot_img
spot_img

बुज़ुर्गों के लिए योग के स्वास्थ्य लाभ

योग का महत्व है कि आप इसे कैसे करते हैं और न कि आप इसे कितना करते हैं। इसलिए, आसान साँस लें और अपनी मुद्रा धारण करें

योग जीवन जीने का एक तरीका है, एक प्राचीन प्रथा जो मन और शरीर के बीच संतुलन बनाने में मदद करती है। अलग-अलग लोगों के लिए योग अभ्यास अलग है, योग की सुंदरता यह है कि आपको लाभ प्राप्त करने के लिए बहुत अधिक नहीं करना पड़ता है। हालाँकि आप इसका अभ्यास कैसे करते हैं, यह आवश्यक है। कोई भी मुद्रा लाभकारी साबित होगी, बशर्ते आप इसे सही तरीके से करें।

कुछ शोधों से पता चला है कि योग बुज़ुर्गों को फिर से युवा महसूस करने में मदद कर सकता है। यहां बताया गया है कि योग आपके लिए लाभदायक क्यों है और आपको इसे अपनी दिनचर्या का हिस्सा क्यों बनाना चाहिए।

  • आपको मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रखता है – बुज़ुर्गों के लिए, अस्थि स्वास्थ्य, मांसपेशियों और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए योग बेहद फायदेमंद है। दैनिक योग अभ्यास शरीर को डीटॉक्सिफाय करने और शारीरिक और मानसिक शक्ति में सुधार करने में मदद करता है।
  • वजन कम करने और कोर को मजबूत करने में योग मदद करता है – दिमाग और शरीर एक साथ काम करते हैं। सांस लेने जैसे सरल कार्य से भी आप वह वज़न घटा सकते हैं जो हाल ही में बढ़ गया हो, और आपके खुद के वज़न की मदद लेकर आपके कोर को भी मज़बूत बनाया जा सकता है। अभ्यास के साथ धैर्य रखना चाहिए , यह धीमी लेकिन प्रभावी क्रिया है।
  • तनाव और चिंता कम करता है – प्रतिदिन कुछ मिनट योग का अभ्यास करने से आप शांत रहेंगे। यह आपको अपने श्वास पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है जिसके परिणामस्वरूप चिंता और तनाव कम हो जाता है। योगिक क्रियाएं जैसे प्राणायाम (साँस लेने के व्यायाम), आसन (मुद्रा) और ध्यान, चिंता और तनाव से छुटकारा पाने के लिए प्रभावी तरीके हैं।
  • प्रतिरक्षा और ऊर्जा के स्तर को बढ़ाता है – योग का अभ्यास करने से शरीर और दिमाग के बीच संतुलन बना रहता है और इसके परिणामस्वरूप बेहतर प्रतिरक्षा और अच्छी ऊर्जा का स्तर होता है। एक अच्छे ऊर्जा स्तर के साथ, हम थोड़े समय में ही बहुत सारे काम कर लेते हैं, अपनी दक्षता बढ़ाते हैं। आपके पसंद की किसी भी योगिक क्रिया के 10 मिनट आपको लाभान्वित करेंगे ।
  • लचीलापन और आकृति को बेहतर बनाता है – जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, हमारे खड़े होने या बैठने की मुद्रा और लचीलेपन पर पहले कभी न अनुभव की गई परेशानी महसूस होती है। अकड़ी हुई पीठ, या विकसित होता कूबड़, आपको दुखी कर सकता है। परन्तु, योग के साथ आप एक बार फिर अपने युवा स्वयं की तरह महसूस करेंगे।

प्रस्तुत हैं 5 ऐसे बुनियादी योग आसन जिन्हें आपको अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाना चाहिए।

  1. ताड़सन उर्फ ​​पर्वत मुद्रा

बुज़ुर्गों के अभ्यास शुरू करने के लिए यह एक बेहतरीन मुद्रा है, यह संतुलन और आकृति के लिए अच्छा है।  खुद को संतुलित करते हुए ऊंचे  खड़े होकर गहरी सांसें लें।  पैर की मांसपेशियों को सक्रिय रूप से प्रयोग करते हुए, पांच से आठ बार सांस लें।

ताड़सन उर्फ पर्वत मुद्रा

  1. वृक्षासन उर्फ वृक्ष की मुद्रा

यह संतुलन, स्मृति और एकाग्रता में सुधार करता है और घुटने और टखने को मजबूत करता है। दीवार का सहारा लेकर इस मुद्रा को शुरू करें। इस तरह जैसे-जैसे आपकी प्रैक्टिस आगे बढ़ेगी आप इसे बिना किसी सहारे के कर पाएंगे। जब आप मुद्रा धारण करें तीन से छह बार सांस लें।

वृक्षासन उर्फ वृक्ष की मुद्रा

  1. वीरभद्रसना I उर्फ योद्धा I

अपने आप को संतुलित करते समय अपने हैमस्ट्रिंग के लचीलेपन में सुधार करें। यह आपके पैरों को मजबूत करता है और साथ ही आपकी छाती और कूल्हों को खोलता है, रक्त के परिसंचरण में सुधार करता है और आपको सक्रिय करता है। इस मुद्रा के दौरान तीन से छह बार सांस लें।

वीरभद्रसना उर्फ योद्धा

  1. वीरभद्रासन II उर्फ योद्धा II

यह उन्नत वीरभद्रासन I है, जब आपके लिए  वीरभद्रासन I की मुद्रा धारण करना आसान हो जाए , तो आप इस आसन की ओर बढ़ सकते हैं। यह आपके पैरों को मजबूत बनाता है साथ ही आपकी छाती और कूल्हों को खोलता है, और हाथों और कंधों को भी मजबूत बनाता है। मुद्रा धारण कर पाँच से आठ साँस लें।

वीरभद्रासन II उर्फ योद्धा II

  1. मारजारीसाना-बिटिलासन उर्फ ​​बिल्ली-गाय मुद्रा

यह एक प्रवाह मुद्रा है, एक के बाद एक किए गए दो मुद्राओं  का संयोजन। यह पीठ के निचले हिस्से के दर्द को दूर करने में मदद करता है, गर्दन और कंधे के लचीलेपन को बढ़ाता है, आकृति और रीढ़ की सेहत में सुधार करता है। अपनी गर्दन को ऊपर की ओर उठाते हुए सांस लें और नीचे देखते हुए सांस छोड़ें। इस प्रवाह को चार से छह बार करें।

मारजारीसाना-बिटिलासन उर्फ ​​बिल्ली-गाय मुद्रा

 

ये योग आसन सरल और प्रभावी हैं। लेकिन सुनिश्चित करें कि आप इसे किसी के मार्गदर्शन में ही इसका अभ्यास शुरू करें । जब तक आप इनके तकनीक से अच्छी तरह से वाकिफ नहीं हो जाएं, तब तक इन्हें अकेले न आज़माएं।

Latest Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,116FollowersFollow
5,190SubscribersSubscribe

Latest Articles