Monday, August 8, 2022
spot_img
spot_img

उत्तर भारत में भगवान का अपना देश कुमाऊं 15 जून, 2020 – नवनीत साहनी द्वारा

पहाड़ियों पर छुट्टियां बिताने के लिए कुमाऊँ एक आदर्श एवं दर्शनीय स्थान है और कोई भी प्रकृति के नज़ारों और आवाज़ों का भरपूर लाभ उठा सकता है। नवनीत साहनी द्वारा।

उत्तर भारत में “भगवान का अपना देश” कुमाऊँ है । जहां हर शिखर किसी न किसी देवी या देवता से जुड़ा हुआ है, यह भगवान शिव और शक्ति की भूमि है। आलीशान और श्रद्धेय पहाड़ों के शानदार दृश्यों के साथ, कुमाऊं एकांत का आनंद लेने के लिए बेहतरीन जगह है, जंगली फूलों के कालीनों के साथ हरी घास के मैदान और शीतल हवा मन को लुभाती है । जब जोगी चाची और समर चाचा ने पहाड़ियों में 10-12 दिनों की छुट्टियों में जाने के लिए राय मांगीं, तो मुझे कुमाऊं की प्रशंसा करने में कोई झिझक नहीं हुई।

भीमताल नैनीताल का कम भीड़ वाला संस्करण है

दिल्ली की हवाई यात्रा के बाद शताब्दी एक्सप्रेस से हम काठगोदाम पहुंचे । जल्दी ही हम रामगढ होते हुए गाड़ी में भीमताल के पहाड़ी रास्तो पर दो घण्टे के लिए निकल पडे । ये नैनीताल जैसा ही परंतु उससे छोटा कम भीड़ वाला स्थान है

रामगढ़ में गेस्ट हाउस

यहाँ से रामगढ़ जाने वाली सड़क तोहफे की तरह थी ,जब आप देवदार और बुरांश के पेड़ो के बीच में से निकलते हैं तो यह बहुत रोमांचक  प्रतीत होता है, यहाँ रहकर बुरांश का रस जरूर पीना चाहिए । रामगढ़ एक छोटा सा शहर है जो कुमाऊँ की “आड़ू घाटी” का केंद्र है। जहाँ तक आपकी नज़र जाती है पहाड़ो की पृष्ठ भूमि मे फलों के बाग दिखाई देते हैं ।  यहाँ से आपको मिलने वाली प्राकर्मी श्रृंखलाओं का दर्शन होता है ज़ो आपको मंतरमुग्ध कर देते है और आपकी साँसे थमने लगती हैं । आप नंदादेवी और नंदा घुंटी, नंदा कोट, त्रिशूल और पांच्छुली रेंज का अभिनन्दन करते हैं। पक्षियों को चहकते हुए सुन सकते हैं, फूलों को खिलते हुए देख सकते हैं और पाइंस की कोमल सरसराहट महसूस कर सकते हैं। शहरों की जिस हवा से फेफड़े दूषित होते है यहाँ की ताजी और ठंडी हवा उसको भी साफ कर देती है । छोटे बुटीक होटल में एक सुंदर बगीचा था और दोपहर के भोजन के लिए बगीचे में बैठना, चोटियों के 180 डिग्री के दृश्य को निहारना सपने के सामान था ।

हमारे रिसॉर्ट से पहाड़ों का पहला दृश्य

हम लोगो ने दोपहर में सुनसान (जहाँ पर ज़्यादा लोग नही आते ) बाज़ार जाने का फ़ैसला किया और वहाँ से रसदार आलूबुखारे और आड़ू खरीदे। पर्वत की ठंडी हवाओं के बीच सैर करते हुए चाय और रमणिए आलू पियाज़ के पकोडें खाने के लिए हम एक ढाबे पर रुके।

मुक्तेश्वर से सूर्यास्त

अगली सुबह हमने क्षेत्र के सबसे ऊंचे स्थान – मुक्तेश्वर की ओर प्रस्थान किया, और और वहाँ से चौली की जाली मुख्यमंदिरऔर बहुत सुंदर पुराने जंगल में बने गेस्ट हाऊस में गये , जो जिम कॉर्बेट ने अपनी यात्रा के दौरान इस्तेमाल किया था। पुराने निरीक्षण बंगले के ईलावा और कोई जगह हो ही नहीं सकती जहाँ से प्राक्रमी शिखर पर्वत श्रंखला का 360 डिग्री दृशय देखा जा सके । पीस डी रिस्सटेंस मिस्टर बिष्ट द्वारा चलाया जाने वाला एक छोटा हर्ब गार्डन है। हर्बल चाय पीते हुए बगीचे से सूर्यास्त को देखना हमारी यात्रा का मुख्य आकर्षण था। आप उससे ऑर्गनो, रोज़मेरी, थाइम, पेपरमिंट, लेमन ग्रास, चिव्स और स्थानीय लाल मिर्च जैसी ऑर्गेनिक रूप से उगाई गई जड़ी-बूटियाँ खरीद सकते हैं। सूर्योदय और सूर्यास्त के दौरान घाटी की दोनों तरफ का दृशय बड़ा मनमोहक है ।

अल्मोड़ा शहर से देखने पर राजसी पर्वत श्रृंखला

अगले दिन बहुत सुबह अल्मोड़ा के रास्ते से होते हुए हम गाड़ी में 3 घंटे  सफ़र करके, घाटियों  और हरी भरी श्रृंखलाओं में से निकलने के बाद बिंसर पहुंचे  ।

बिनसर वनवासी

बिनसर के जंगलों पर सूर्यास्त

मिलियन-डॉलर विचारों के साथ स्थान

ये प्राकृति का आरक्षित क्षेत्र है जहाँ लोगो का आना जाना मना था । सरकार द्वारा चलाया गया पुराना हिलटॉप रेस्ट हाउस आपको बेहतरीन दृश्य दर्शाता हैं लेकिन बहुत कम। सूर्योदय और सूर्यास्त के दौरान शानदार पहाड़ी दृश्य अति लुभावने है । हम ब्रिटिश सदी की एक रियासत पर रुके जहाँ आग सेकने की जगह थी, बहुत बड़ा ब्रांडा जिसमे बहुत सारे फूल लगे हुए थे , अच्छा शाकाहारी भोजन भी था और वहाँ  सैर  करने के लिए रास्ता भी बना हुआ था । यह रोडोडेंड्रोन, पाइन, ओक और देवदार के जंगलों में सैर करने के लिए अच्छी जगह है। हम एक ऐसी जगह  पहुंच गये जहाँ से मिलियन डॉलर का दृशय देखने को मिला । हमने स्थानीय गांव में एक कप चाय पी और स्थानीय लोगों से बात की। यह कहने की आवश्यकता नहीं है कि यह पक्षियों का स्वर्ग है और वास्तव में किसी अन्य दुनिया में ले जाता है। मैं गारंटी देता हूं कि आप इस जगह को कभी नहीं छोड़ना चाहेंगे।

हमारा यह स्वर्ग छोड़ने का बिल्कुल मन नही था, लेकिन हमें बताया गया कि हमारी अगली मंजिल भी उतनी ही शानदार है  – मुनस्यारी जितनी बिंसर थी। यह एक लंबा दिन था , बागेश्वर से एक छोटा चक्कर लगाकर हम बैजनाथ मंदिर में रुक गए  जो की भगवान वैद्यनाथ (चिकित्सकों के भगवान के रूप में शिव) को समर्पित था । दोपहर को  भोजन करने के लिए रास्ते में हम एक अच्छे ढाबे पर रुके जहां हमने स्थानीय कुमाऊँनी दाल का स्वाद चखा । आख़िरकार हम अपनी अंतिम मंज़िल मुनस्यारी में पहुंच गए ,वहाँ जाकर हमने  महसूस किया की ये भूमि वास्तव मे देव भूमि है । इसे मिनी कश्मीर के रूप में भी जाना जाता है, यह पंचाचूली रेंज की गोद में बसा है। नंदादेवी और नंद कोट की चोटियाँ इतनी करीब लगती हैं कि ऐसा लगता है कि आप उन्हें छूने के लिए पहुँच सकते हैं। मुनस्यारी की ऊंचाई लगभग 2300 मीटर है और यह बहुत सारे ट्रेक के लिए एक आदर्श आधार है, लेकिन दिन भर की लंबी पैदल यात्रा के लिए भी यह जगह अच्छी है।

मुनस्यारी से देखें

यहां के होटल छोटे लेकिन आरामदायक हैं और क्योंकि वे वर्ष में खाली छ: महीने खुले रहते हैं, इसलिए उन्हें ज़्यादा शानदार नहीं कहा जा सकता । वे एक बात की गारंटी देते हैं जो हर अनुभव को बढ़िया बनाता है – और वह है सुंदर दृशय ।

शानदार सूर्योदय

अगली सुबह हम प्रसिद्ध बिर्थी झरने को देखने के लिए निकल पड़े। गिरता हुआ झरना बहुत ही शानदार था ,यह उन  यात्रियों के लिए आदर्श स्थान है  जो  जंगलो में घूमते हैं । चलते हुए खुश और ताज़ा महसूस करते हुए वापसी पर हम प्रसिद्ध और अत्यधिक पूजनीय कलामुनि मंदिर में रुक गए। यहां स्थित देवी काली, भगवान शिव और गणेश की मूर्तियां सदियों पुरानी बताई जाती हैं।

हमारी योजना के अनुसार, हमने इस दिन को खलिया के शीर्ष पर जाने के लिए बचा के रखा था – यह  भूमि लगभग 3500 मीटर उँची है और यात्रा के लिए अच्छी है। सभी ने हमें बताया कि हम में से किसी को केवल तभी जाना चाहिए जब मौसम बिल्कुल साफ़ हो तांकिअच्छे दृश्य देखने को मिल सकें। जैसा कि भाग्य में होगा, यह स्पष्ट और सच था कि सभी ने  कहा था, कई चोटियों के दृश्य आश्चर्यजनक थे। हमें पहले ही बताया गया था की हम एक रात मैदान (स्थानीय भाषा में बुग्याल) में तंबू गाड़कर  रुक सकते थे,कितने दुख की बात है कि अब इसकी अनुमति नहीं है। जैसा कि मुझे यकीन है कि सूर्योदय और सूर्यास्त घाटी के दोनों तरफ का दृशय बड़ा मनमोहक है।

अंतिम दिन खुला रखा गया था, लेकिन स्थानीय लोगों की प्रशंसा पर, हम डार्कोट गांव गए। यह एक छोटी ड्राइव (5-6 किलोमीटर) की दूरी पर है और कुछ घरों में पुरानी कुमाउनी वास्तुकला और संस्कृति देखने को मिलती थी। हमने कुछ स्थानीय दुकानों को हाथ से बुनी हुई शॉलें बेचते हुए देखा – जो कुछ ने पश्मीना ऊन के साथ बनाने का दावा किया था, हालांकि मैं इसके बारे में निश्चिंत नहीं हूं।

शानदार सूर्यास्त भी कुछ कम नहीं

अंत में, हम नंदा देवी मंदिर को अभिनंदन करे बिना नहीं जा सकते थे – जो मात्र मुख्य शहर से तीन किलोमीटर की पैदल दूरी पर था। कहने की जरूरत नहीं कि नंदा देवी के पर्वत और मंदिर के दृश्य एक साथ विस्मयकारी हैं।

जबरदस्त नाश्ते के बाद हम वापस रानीखेत के लिए रवाना हो गए। लगभग सात घंटे की यात्रा के  दोरान हम बागेश्वर में लंच के लिए रुके ।  ब्रिटिश काल से बनी हुई  छावनी रानीखेत एक महत्वपूर्ण शहर है । शुक्र है कि शहर अनियोजित विकास को नियंत्रित करने में सक्षम हो गया है क्योंकि शहर का अधिकांश हिस्सा छावनी बोर्ड के अधीन है। यहाँ के कुछ पुराने होटल ब्रिटिश काल की भी विरासत हैं, और इनमें उत्कृष्ट भोजन है – ऐसा ही एक स्थान है वेस्ट व्यू होटल। भले ही रानीखेत काफी खूबसूरत है, लेकिन ख़ासकर कुमाऊं के खूबसूरत स्थानों – रामगढ़, बिनसर और मुनस्यारी में यह घुटन भरा लग रहा था।

हमारा अंतिम पड़ाव एक ऐसी जगह था जिसकी प्रशंसा हमें बहुत की गई थी। भवाली से कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर स्थित, छोटा सा 8 कमरों का गेस्ट हाउस जो की कई एकड़ में बना एक परिवार द्वारा संचालित, स्वादिष्ट भोजन के लिए आदर्श स्थान था।

भवाली के पास गेस्ट हाउस

आंखों के लिए भी भोजन

यह उत्कृष्ट मैक्सिकन, चीनी, कॉन्टिनेंटल और निश्चित रूप  से भारतीय व्यंजनों को प्राप्त करने के लिए स्वर्ग से अमृत के समान था। अगर मेरे बस मे होता, तो मैं एक मिशेलिन स्टार रेटिंग देता। सबसे अच्छा यह है कि दोपहर के भोजन के दौरान आप भोजन कक्ष में भोजन करने के लिए बाध्य नहीं हैं, बल्कि घने जंगलों में घाटी को देखते हुए एक सुंदर खुली जगह में खाना खाने जा सकते हैं। यह हमारे दौरे का सही अंत था। हमने यहां से एक दिन के लिए नैनीताल की यात्रा की योजना बनाई थी, लेकिन स्पष्ट रूप से सिर्फ “स्वर्ग” से बाहर निकलने के लिए नहीं था। पहले इसे देखने के बाद आप भीड़ वाले नैनीताल शहर के लिए एक दिन की यात्रा कर सकते हैं। झील बहुत ही सुंदर थी और राज्यमहल की हवेली भी बहुत सुंदर है । सुंदर मैदान के साथ स्कॉटिश महल कई बार जनता के लिए खोला जाता है। मुख्य फ़ोयर में नटराज की मूर्ति देखने लायक है। आसपास का गोल्फ कोर्स अपनी तरह का एक है और अक्सर उत्साही लोग इत्मीनान से खेल को देख सकते हैं।

    

नैनीताल में राजभवन

        

राजभवन, नैनीताल के पास रोलिंग गोल्फ कोर्स

होटल की रियासत के आसपास नदी की तरफ जाने का रास्ता  सैर करने के लिए बहुत उत्तम है। मेहमानों को एक दिन की पिकनिक के लिए टोकरी में खाना ले जाने की सलाह दी जाती थी । यह वही है जो हमने किया था, और वास्तव में अच्छा समय था।

हम भरे मन और तृप्त पेट के साथ दोपहर मे शताब्दी एक्सप्रेस से दिल्ली के लिए रवाना हुए । जैसा,की पैट कॉनरो ने कहा है “एक बार जब आप कहीं घूमने जातें हैं तो आपकी यात्रा वहीं ख़तम नहीं होती ।” मन कभी भी यात्रा को ख़त्म नही होने देता । हम जब भी चाहें मन की आँखो से इस यात्रा को जी सकते हैं!

कुमाऊं कब जाना चाहिए-यात्रा का सबसे अच्छा समय मार्च से मध्य अप्रैल तक है, साथ ही सितंबर से नवंबर तक का समय है क्योंकि आसमान उस समय साफ और फोटोग्राफी के लिए एकदम सही है। यह एक अतिरिक्त बोनस है कि पर्यटकों की भीड़ इस समय यात्रा नहीं कर रही होती, ताकि आप प्रकृति के स्थानों और ध्वनियों का अधिकतम लाभ उठा सकें।

मुनस्यारी को छोड़कर सभी स्थानों पर आलीशान और आरामदायक रहने के लिए जगह मिल सकती है। साथ ले जाने के लिए आरामदायक जूते, एक कैमरा, कपड़े की गर्म परतों के एक जोड़े, एक टोपी, एक छाता, एक मजबूत चलने की छड़ी, कुछ अच्छी किताबें और अपने पसंदीदा शराब हैं। याद रखें – यह न केवल एक दर्शनीय स्थल है, बल्कि मन को संतुष्ठी देने वाली ड्राइविंग और साथ ही साथ पैदल यात्रा के लिए भी बहुत उत्तम स्थान है।

Latest Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,116FollowersFollow
4,670SubscribersSubscribe

Latest Articles