Wednesday, December 7, 2022
spot_img
spot_img

त्वचा की देखभाल के लिए मौलिक सलाह – भाग 1 – दीपा दीसा द्वारा

श्रृंखला के दो-भाग में, दीपा दीसा आपकी त्वचा की देखभाल के लिए सरल तरीके बताती है। पहला हिस्सा त्वचा की स्वच्छता की मूल बातें साझा करती है जो एक स्वस्थ त्वचा के लिए योगदान देती है

हमारी त्वचा को उतनी ही देखभाल की आवश्यकता होती है जितना कि हमारे पेट को भोजन की और हमारे बालों को चमकदार और स्वस्थ बनाने का प्रयास करने की ।

                                सभी की उम्र अलग-अलग होती है, लेकिन 60 और 70 के दशक के दौरान, आप देख सकते हैं कि आपकी त्वचा निम्नलिखित तरीकों से बदल गई है और वे है:

  • शुष्क त्वचा 
  • त्वचा का पतला और कागज की तरह दिखना 
  • खुजलीदार
  • अधिक उम्र के धब्बे, झुर्रियाँ, और शिकन
  • झाइयाँ और गहरी झाइयाँ 
  • धब्बेदार 
  • त्वचा पर जलन होना 
  • त्वचा के संक्रमण के लिए अधिक संवेदनशील
  • आसानी से खरोंच लगना 
  • पसीना कम आना
  • धीरे-धीरे जख्म भरना

                                       आप इनमें से कुछ बदलावों का अनुभव कर सकते हैं। बुढ़ापा हार्मोन संबंधी परिवर्तन लाता है, इसके अलावा, दवा, एलर्जी, बीमारियों, तनाव और सामान्य रूप से जिंदगी हमारे ऊपर कई तारह के बदलाव लाती है जो कि हमारी त्वचा पर दिखाई देने लगते है । बस इस बात से अवगत रहें कि आपकी त्वचा पर क्या हो रहा है और आपकी त्वचा की देखभाल के लिए हमारे सरल सुझावों का पालन करें। जब आपकी त्वचा को ऊपर दी गई स्थितियों में से नुकसान के अधिक संकेत दिखाई दे रहे हो तो आपको यह पता होना चाहिए कि ये समय त्वचा विशेषज्ञ के पास जाने का सही समय है।

                                    10-कदम वाली कोरियाई शैली की दिनचर्या की वकालत से दूर, आइए कुछ सरल तरीकों पर ध्यान दें ताकि आपकी त्वचा अच्छी दिखे और त्वचा अच्छा महसूस करें।

यह त्वचा की देखभाल के 3 पारंपरिक  चरण है :

चरण 1: स्वच्छ करना

चरण 2: टोन(रंग)

चरण 3: नमी

मैंने इसे कुछ इस तरह से ठीक किया है :-

अपनी त्वचा को साफ करें:-

                                       चाहे आप एक पुरुष हों या महिला बहुत ज़रूरी है कि आप अपनी त्वचा को हर मौसम स्थिति में साफ रखें (जैसे कि: गर्म धूप, नमी, जहरीले धुएं, प्रदूषणों आदि)। आपको फैंसी क्लीन्ज़र का उपयोग नहीं करना चाहिए (ध्यान दें: कृपया ऐसे साबुन का उपयोग न करें जो प्राकृतिक चीज़ों से नहीं बने हैं, क्योंकि वे आपकी त्वचा को तेल और नमी से दूर कर देते हैं)। प्राकृतिक तेलों के साथ कोमल साबुन और सीताफल जैसे क्लींजर सुरक्षित हैं।

                                           अपनी त्वचा को ठंडे या गुनगुने पानी से धोएं, क्योंकि गर्म पानी आपकी त्वचा की नमी को सोखता है। खुरदुरा लूफा और खुरदुरे कपड़ों से बचें  और कृपया! अपनी त्वचा को रगड़ें नहीं, बस एक नरम तौलिए के साथ अपनी त्वचा को प्यार से थपथपाना चाहिए।

                                            मैं साधारण टोनर उपयोग करने का सुझाव देती हूँ, जैसे गुलाब जल, लैवेंडर जल, और हरी चाय का पानी (जी हां, हरी चाय की पत्तियों वाला पानी त्वचा के लिए बहुत अच्छा होता है, लेकिन इसका निधानी (सेल्फ़) जीवन बहुत छोटा है, इसलिए आपको नए बैच बनाने की जरूरत है)। उन्हें फ्रिज में ठंडा रखें – आप अपनी त्वचा को स्प्रे करने के लिए स्प्रे बोतल का इस्तेमाल कर सकते है और अपनी आँखें बंद रखते हुए, अपनी त्वचा को स्प्रे कर सकते हैं। छिड़काव के बाद अपनी उंगलियों से अपनी त्वचा को थपथपाए और टोनर  त्वचा को ताज़ा और उसका संतुलन बनाने में मदद करता है।

                                       सप्ताह में एक बार अपनी त्वचा को एक्सफोलिएट(एक प्रक्रिया जो मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाती है) करें। आप अपनी पेंट्री (भंडार) में जेंटली एक्सफोलिएटर पाएंगे। मैंने पाया कि कुछ उत्पाद एक ही समय में एक्सफोलिएट और पोषण एक साथ दोनों करते हैं। ध्यान दें कि घरेलू उपचार आपकी त्वचा के लिए एक अच्छा उपचार है, लेकिन वे हमेशा आपके द्वारा अनुभव की जा रही किसी भी त्वचा की स्थिति का समाधान नहीं हैं।

स्वयं शुरू करने के लिए कुछ व्यंजन विधि:-

  1. दलिया, बादाम और दही का एक- एक चम्मच मिलाएं (दही-इसमें लैक्टिक एसिड-एक प्राकृतिक एक्सफ़ोलीएटर है)। धीरे से अपनी उंगलियों के साथ गोलाकार ऊपर की तरफ में स्क्रब करें, किसी भी संवेदनशील क्षेत्र से बचें। आधा छोटा चम्मच शहद मिलाएं और एक बार फिर से स्क्रब करें। दस मिनट के लिए छोड़ दें। गुनगुने पानी से साफ करें। यह सूखी, संवेदनशील त्वचा के लिए आरामदायक है।
  2. A.) पपीता, नींबू का रस, शहद, और हल्दी तेल / पाउडर; या B.) पपीता, एलोवेरा जेल, आधा चम्मच सेब साइडर सिरका और शहद: इन सब चीज़ों का एक पेस्ट बनाएं। दस मिनट के लिए छोड़ दें। गुनगुने पानी से साफ करें । इन सब चीज़ों का इस्तेमाल करने से आपकी त्वचा को पोषण मिलेगा।
  3. कॉफी ग्राउंड्स(कॉफी पीसने के बाद शेष बचा हुए भाग), दलिया पाउडर, नारियल तेल और वेनिला भी एंटीऑक्सिडेंट में उच्च हैं और कैफीन सूजन को कम करती है। सभी सामग्रियों को अच्छी तरह से मिलाकर अपनी त्वचा पर लगाएं। दस मिनट के लिए छोड़ दें। गुनगुने पानी से साफ करें।

                                       अगर आपकी त्वचा अत्यंत नाज़ुक है तो पहले अपने आंतरिक कलाई क्षेत्र पर याँ अपने जबड़े के क्षेत्र पर एक पैच परीक्षण करें। हमेशा गहरी सफाई के बाद चेहरे को हल्के तेल से या क्रीम से मॉइस्चराइज करें।

सुरक्षित करना:-

शुष्क मौसम, ऐ.सी , सूरज के संपर्क, अत्यधिक ठंड, हीटर कुछ ऐसे हानिकारक तत्व हैं जो हमारी त्वचा की नमी को बनाए रखने की क्षमता को कम कर देते हैं और आपकी त्वचा के अवरोधक कार्य को समाप्त कर देते हैं। जिसका अर्थ है, त्वचा सुख जाती है ,कोशिकाएं निर्जलित और कमजोर हो जाती हैं। जब आप इन चीज़ों के समक्ष आते है उस समय अपनी त्वचा को बचाए। इससे रक्षा करने के लिए अंतर्निर्मित मॉइस्चराइज़र युक्त एक अच्छी सनस्क्रीन  का इस्तेमाल करें। 30 एसपीएफ़ का एक व्यापक स्पेक्ट्रम सनस्क्रीन चुनें – जो यूवीए और यूवीबी किरणों को रोकता है।

टीआईपी: सूखी खुजली वाली त्वचा से बचने के लिए, ह्यूमिडिफायर(वायु को नम रखनेवाले उपकरण) का उपयोग करने पर विचार करें।

अपने एलईडी प्रकाश सहित, घर पर उपयोग किए जाने वाले डिजिटल उपकरणों से नीली बत्ती के बारे में अवगत रहें, (सीनियर्स टूडे के पास इसके प्रभावों पर एक विस्तृत लेख है) और इससे आपको त्वचा को बहुत नुकसान हो सकता है। आज कई कंपनियाँ नीले प्रकाश संरक्षण के लिए समर्पित उत्पाद देती हैं।

                                      बाग़बानी करते या गंदे बरतन धोते समय दस्ताने का उपयोग करके अपने हाथों को सुरक्षित रखें। याद रखें कि मॉइस्चराइज़र का उपयोग उदारतापूर्वक और दिन में कई बार अपने हाथों को भिगोने और नमी देने के लिए करें।

                                  बहुत संवेदनशील त्वचा वाले वरिष्ठ लोगों को हाइपो-एलर्जेनिक उत्पादों का उपयोग करने की आवश्यकता हो सकती है जो सुगंध-मुक्त होते हैं और हाइपरसेंसिटिव त्वचा के प्रकारों के लिए तैयार होते हैं। यदि आपकी त्वचा जलती है, खुजली होती है, तो टमाटर लो- जहाँ ज़्यादा जलन होती है वहाँ लगाओ अगर फिर भी ठीक ना हो, तो आपको एक अच्छे त्वचा विशेषज्ञ से मिलना चाहिए।

पोषण करना:-

60, 70 और 80 के दशक में हमारी त्वचा पतली और अधिक संवेदनशील हो जाती है। कोमल और प्राकृतिक मॉइस्चराइज़र के साथ त्वचा को रोजाना पोषण देना आवश्यक है। आपकी त्वचा लिपिड (वसा) और कोशिकाओं से बनती है। इसका मतलब यह है कि आपकी त्वचा को प्राकृतिक तेलों से आवश्यक कोमलता की आवश्यकता होती है, जो कि हम उम्र के रूप में त्वचा के लिपिड के नुकसान के कारण खो रहें हैं। एक मॉइस्चराइज़र में पानी की मात्रा भी आपकी त्वचा की कोशिकाओं में हाइड्रेशन जोड़ती है जो आपकी त्वचा को कोमल और ताज़ा दिखने में मदद करती है।

                                      नारियल, जैतून, बादाम, एवोकैडो का तेल उपयोग करने से त्वचा पर मॉइस्चराइज आसानी से ला सकते है। शिया बटर, कोकोआ बटर भी संवेदनशील त्वचा के प्रकारों के लिए प्रभावी होते हैं। आप परिणाम को बढ़ाने के लिए आवश्यक तेलों का मिश्रण जोड़ सकते हैं और साथ ही अच्छी सुगंध आप महसूस कर सकते हैं । तेल में समृद्ध क्रीम भी एक अच्छा विकल्प है। अधिक जटिल पौष्टिक तत्व जिन्हें तेल और क्रीम में शामिल किया जा सकता है उनमें सेरामाइड्स, हाइलूरोनिक एसिड आदि शामिल हैं।

                                             मॉइस्चराइज़र का उपयोग करने का सबसे प्रभावी समय वह है जब आपकी त्वचा में अभी भी नमी हो। स्नान के बाद अपने चेहरे और शरीर पर प्राकृतिक तेल का उपयोग करें।

                                          भाग 2 में एंटी-एजिंग(बुढ़ापा विरोधी) अवयवों के बारे में बात की जाएगी जो आपकी त्वचा के लिए अच्छा काम करते हैं।

चेतावनी: जब आप स्नान क्षेत्र में तेल का उपयोग करते हैं, तो आप फिसलने और गिरने का खतरा बढ़ाते हैं, इसलिए यदि आप तेल का उपयोग कर रहे हैं, तो बाथरूम से बाहर बैठकर करना सबसे अच्छा है। फिसलन वाली सतहों पर खड़े होने और नहाने के तेल के उपयोग से बचें। नमी को बंद करने और फिसलने से रोकने के लिए तुरंत मोजे पहनें।

                                           अपनी त्वचा के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए, अपनी जीवनशैली का पुनर्मूल्यांकन करें। ताजा उत्पादन खाएं और बहुत सारा पानी और पौष्टिक तरल पदार्थ पीएं। आप अपने शरीर में क्या डालते हैं, यह बाहर की ओर प्रतिबिंबित करता है।

                                      तनाव हमारी आंखों के नीचे दिखाई देता है और हमारे रंग को फीका कर देता है। अपने आप को कभी-कभार सौम्य पेशेवर चेहरे की मालिश के लिए इलाज करें। पर्याप्त गुणवत्ता वाली नींद लें। ध्यान और मंत्र या प्रार्थना के साथ शांत रहें यदि वह आपके लिए काम करता है। प्रकृति में समय बिताएं, यह आपकी कोशिकाओं को ऑक्सीजन देता है। योग और व्यायाम आपकी कोशिकाओं में रक्त के प्रवाह को स्वस्थ चमक प्रदान करते हैं। हँसना, आपकी त्वचा को चमकदार बनाता है! 

                                               युवा त्वचा के बजाय बेहतर, स्वस्थ त्वचा का लक्ष्य बनाए। इसके अलावा अगर आपकी त्वचा स्वस्थ दिखती है; आप स्वचालित रूप से युवा दिखेंगे। हालांकि डी न ए अच्छी त्वचा का निर्धारण करता है, यह उससे आगे जाता है। आपकी दैनिक आदतों का दर्पण में जो कुछ भी दिखाई देता है, उस पर आपका बड़ा प्रभाव पड़ता है। त्वचा की देखभाल सरल हो सकती है लेकिनआज उपलब्ध उत्पादों और प्रक्रियाओं की संख्या के  यह भी भ्रामक और जटिल हो सकती है। अंततः, आपकी त्वचा की देखभाल एक व्यक्तिगत मामला है, इसलिए एक ऐसी व्यवस्था चुनें जो आपको आपके बारे में अच्छा महसूस कराए।

आपकी त्वचा के लिए सबसे प्रभावी एंटी-एजिंग सामग्री – भाग 2 , इसके लिए अगले सोमवार, 28 दिसंबर को देखें

यदि आप उपरोक्त लिखित या सामान्य रूप से त्वचा की देखभाल के बारे में कुछ पूछना चाहते है तो हमें इस विषय पर editor@seniorstoday.in पर त्वचा की देखभाल के साथ लिखें।

Latest Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,116FollowersFollow
5,210SubscribersSubscribe

Latest Articles