Saturday, May 21, 2022
spot_img

टाइपराइटर, विनाइल और फाउंटेन पेन के बारे में

नागेश अलाय, फोन करना, लिखना और संगीत सुनने के विकास पर पीछे मुड़कर देखते है और एक टेढ़ी, पर प्यार भरी  नजर  डालते है

आज 13 सितंबर है, जब मैं लिख रहा हूँ। 13 सितंबर को मेरी प्यारी भतीजी का 13वां जन्मदिन भी हैजो बहुमुखी प्रतिभा की धनी तथा प्रौद्योगिकी और आज के  रुझानों में शीर्ष पर है। कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि मुझे, आज उसकी तरफ से, उसके आभासी जन्मदिन समारोह में शामिल होने के लिए Zoom Apps पर शाम 4 बजे का  इनविटेशन मिला। लॉकडाउन, अधिकांश चीजों के लिए कठिन हो सकता है, लेकिन स्पष्ट रूप से प्रौद्योगिकी, सामयिक चुनौतीपूर्ण और दूर के समय के दौरान एक उत्साहवर्धक है। दूरियों के बावजूद भी,  हम प्रौद्योगिकी की सहायता से एक दूसरे के साथ जुड़े  हुए हैं। आज के रुझानों को देखते हुए, यह  स्पष्ट है कि मेरे द्वारा दी गई वर्षगांठ की बधाई की प्रतिक्रिया, उसने एक गुप्तtysmमें  दीमुझे यह समझने में थोड़ा समय लगा कि इसका मतलब है-बहुत बहुत धन्यवाद(Thank you so much) एक पतली लड़की जब सिर्फ 12 साल की थी, तो चीजों के बारे में ऐसी समझदारी से बात करती थी, जैसे की बहुत ज्यादा जानकार हो, जो हर किसी को मंत्रमुग्ध कर सकती है। मैं इस बात पर काफी सुनिश्चित हूं कि आज वो Zoom App पर, आकर्षण का केंद्र बनने जा रही है।

                           मैं बड़े उत्साह से,  जवानी के दिनों और पुराने  समय को याद करता हूं कि वो काफी आनंद वाले दिन थे, लेकिन एक ऐसा समय जो निश्चित रूप से एक दिन बीत जाता है। और जब से मैंने स्कूल छोड़कर वास्तविक दुनिया में कदम रखा था, लगभग दशकों  से नए प्रौद्योगिकी की खोज हुई। 

                     मेरी मैट्रिक की परीक्षा(उन दिनों 11वीं, एस.एस.सी पास करने को कहते थेके तुरंत बाद, 16 वर्ष की आयु से ही मैंने एक अभ्यासी चार्टर्ड अकाउंटेंट के रूप में अपने पिता के साथ काम करना शुरू कियाउनका कार्यालय, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के ठीक पीछे था और हमारी खिड़की से ट्रेडिंग हॉल दिखाई देता  था, जो अब एक अवशेष के रूप में प़डा है (व्यापारिक घंटों के दौरान हम दलालों की चिल्लाहट और शेयरों की  बोली और खरीद सुन सकते थे, उनके इशारे और  उंगलियों  के  संकेत के साथ इन इशारों को  केवल व्यापारी ही समझ  सकते थे, लेकिन अनुबंध के नोटों में ट्रेडों को सटीक रूप से प्रतिबंधित किया जाता है) एक विशिष्ट कार्यालय के  साज सामान के रूप में, हमारे पास एक ओलिवेट्टी और एक रेमिंगटन रैंड टाइपराइटर था।

                      कार्यालय की सचिव एक कुशल टाइपिस्ट और आशुलिपिका थी।  जब मेरे पिता किसी केस का अध्ययन और कर याचिकाओं का बहुत तेजी से अनुवाद करने के लिए कहते थे, तो मैं उनकी  आशुलिपि की गति और उसके बाद आशुलिपि पर्चियों को टाइप करके  ड्राफ़्ट में परिवर्तित करने की तेज गति को देखकर आश्चर्यचकित हो जाता था। टाइपराइटर पर तेज गति एक सार था और जब, की-पैड से रैटटटपैट की आवाज आती थी और काग़ज़ पर  टाइपफेस  और रोलर  को हर  एक लाइन  के बाद  मोड़ना और वापस आना, लाल रंग  में शब्दों / वाक्यों को  उजागर करने के लिए टाइप राइटर के कुंजी का स्थानांतरण, इन सब की आवाजों को सुनना बहुत संगीतमय था। यद्यपि,  ड्राफ़्ट में बदलाव करना और उसे अंतिम रूप देना एक जटिल क्रिया थी, पर उनकी गति को देखते हुए, यह काफी प्रबंधनीय था। कागजों का ढेर लगनाप्रतियों  के लिए कार्बन (बिना अपनी उँगलियों पर धब्बा  लगाए) को काग़जों के बीच में रखकर रोलर में डालना, कोरस (क्या किसी को योर का प्रसिद्ध नाम याद है, यह अभी  भी स्वयं को पुनर्जीवित करने के कारण बचा हुआ है)  रिबन स्पूल, जो एक प्यारे वर्गाकार प्लास्टिक के डिब्बे  में आता था,  को  बदलना, टाइपफेस, रोलर और बाकी के सभी  हिस्सों को मासिक रूप से साफ करना, उन दिनों कुशलता का माप दंड था। आज, जिसे  प्रौद्योगिकी ने इसका  एक डिजिटल संस्करण लाकर  या एक साधारण स्कैन  की सहायता से अत्यंत सरल बना दिया है  1980 के दशक के मध्य में, कंप्यूटर के आगमन से पहलेइलेक्ट्रॉनिक टाइपराइटर (जैसे गोदरेज, आई.बी.एम. आदि), पारंपारिक  टाइपराइटर के संशोधन के रूप में आए उन दिनों, टाइपिंग सीखना, दक्षता और आत्मनिर्भरता के संकेत के रूप में देखा जाता था। मैं और मेरे सभी भाईबहन, टाइपिंग क्लास में जाया करते थे और उसमें पारंगत हो गए। कंपनी में सम्भावित भर्ती के लिए, एक उच्च टाइपिंग गति को, गुण के रूप में देखा जाता था। शुरू में, कार्यालय में, मैं एक उंगली से अभ्यास किया करता था(और ‘एकबोते’ याएक अंगुली से टाइप करने वाली’ मेरी पहचान बनती जा रही थी ), लेकिन अंततः, एक कुशल टाइपिस्ट बन गया, जो नौकरी के लिए काफी अच्छा था और ड्रॉ में सबसे तेज गति के टाइपिस्ट होने का दावा करता था। वर्क फ्रोम होम(Wfh) कुछ भी नया नहीं था, हम रविवार को भी घर पर काम किया करते थे, जिसमें अंडरवुड टाइपराइटर के कॉम्पैक्ट संस्करण द्वारा सहायता प्राप्त होती थी।

इन शानदार मशीनों पर एक उच्च  टाइपराइटिंग गति, नए भर्ती के लिए एक गुण  के रूप में देखा जाता था 

हैलो  हैलो?

                      उन दिनों, फोन कनेक्शन लेना एक छोटी जीत थी और काले रंग के फोन के अलावा, अपने पसंदीदा रंग का फोन प्राप्त करना एक बड़ी जीत थी, जो वर्षों के इंतजार के बाद होता था। इन दिनों  रोटरी डायल फोन आना दुर्लभ हो गया है और प्राचीन वस्तुओं के रूप में अभिलाषी है। शुरू मेंहमारे पास एक काले रंग का फोन था और अधिक रंग प्राप्त करना, हमारे बजट को हिला देने वाला थारोटरी डायल फोन से डायल  करते समय, फोन बुक या डायरेक्टरी ( डायरेक्टरी-सैकड़ों पृष्ठों से अधिक की होती थी, जिसमें लोगों और जगहों का नाम अंग्रेज़ी वर्णमाला के क्रम में  होते थे और येलो पेज कलम से लेकर सर्वरोगहर औषधि  से लेकर लगभग सबकुछ बेचते थे- ये घरों और ऑफिस में सबसे ज्यादा देखी जाने वाली पुस्तक थी ) में नंबर देखते समय डायल करने का आकर्षण और सीटी बजने की आवाज,  अपने आप में एक घटना थी, जिसमें डायल करते समय, व्यक्ति के चारों ओर, एक से अधिक व्यक्तियों का झुंड लग जाता था। और इन सब ने धीरेधीरे लोगों  को नम्बरों की संपर्क सूची से जल्दी मिलने से लेकर इन्टरनेट के द्वारा संगठित कॉल करने को रास्ता दिया। रद्दी वाले को देने से पहले, मैंने कई वर्षों तक  स्वैच्छिक टेलीफोन निर्देशिकाओं के एक सेट को बनाए रखा थाजो अच्छी तरह से अतीत में उपभोक्ता डेटा के ट्रेडर, विक्रेता, प्रदायक इत्यादि हो सकते थे, जो आज आसानी से FANGs और उन जगहों पर बेचे जा रहे हैजहां, आज हम आभासी  रूप से लोगों से मिल-जुल रहे है।

बहुमूल्य लैंडलाइन टेलीफोन और  भी अधिक पवित्र होता था, अगर उपकरण सामान्य काले रंग के अतिरिक्त अन्य रंग में आता था  

फैक्स सही प्राप्त करें

                  1980 के दशक की शुरुआत में, कॉर्पोरेट जगत में मेरी पहली खोज ने, मुझे टैलेक्स और टेलीप्रिंटर्स एवं फैक्स मशीनों से अवगत कराया। हमारी कंपनी, एक बहुराष्ट्रीय फार्मास्युटिकल कंपनी थी, जो बॉलार्ड पियर के  हेरिटेज सीमा प्रांत के एक हेरिटेज भवन में स्थित थी। विदेशों में, बिजनेस रिपोर्टिंग को शीर्षलाइन दृश्यों के लिए, टेलीकॉम और विस्तृत मेल के माध्यम से किया जाता था।  1980 के दशक के मध्य में, जब  फ़ैक्स मशीन आईं, तो शुरू में उच्च लागत और फोन लाइनों की खरीद के लिए लंबे समय का समय दिया गया था। चालाक लोगों ने,  फैक्स की सुविधा देने के लिए दुकानें  खोली, जो प्रतिपृष्ठ ( मूल्य 12 से 15 रुपये हुआ करती थीं) कीमत  लिया करते थे, और हम कई पृष्ठों और विश्लेषणों में चल रही व्यावसायिक जानकारी को फैक्स करने के लिए इन दुकानों पर अपने कार्यालय सहायक  को भेजते थे। समय के साथ, मूल्य समानांतर हो गया और लगभग हर कंपनी में एक फैक्स मशीन और समर्पित फैक्स लाइन थी। उन दिनों के विज़िटिंग कार्ड में आवश्यक जानकारी के रूप में टेलीफोन, फैक्स और टेलीक्स नंबर होते थे। कई ब्रांड जैसे रिको, कैनन, आई.सी.आई.एम. इत्यादि कंपनियां, उन दिनों बहुत प्रचार करती थीं।  अधिकांश, अन्य मशीनों की तरह प्रौद्योगिकी के विकास  के कारण, फैक्स मशीन भी अब अनुपयोगी हो गई है

संगीतमय रूप से तुम्हारा

                     जब मैं फोर्ट हेरिटेज सीमा प्रांत में काम कर रहा था, तब काम करते हुए, मैं काला घोड़ा ( इस प्रतिमा को भायखला के चिड़ियाघर के मैदान से बाहर निकालने से पहले, घोड़े पर राजपरिवार की नामचीन काली प्रतिमा लगी थी) टहल कर जाया करता था। मैं जिन जगहों  पर  अवश्य जाता था, उनमें से एक रिदम हाउस था, जोअंग्रेजी, हिंदी, मराठी, तमिल जैसे सभी प्रकार के संगीत रिकॉर्ड (या विनाइल)  बेचता था। उनके पास  क्यूबिकल या गाना सुनने का कक्ष था, जहाँ आप रिकॉर्ड को चला सकते थे और विनाइल खरीदने  से पहलेहेडफ़ोन लगाकर, एकांत में संगीत सुन सकते थे अगर मैं अवलोकन करता हूं तो क्रमली परिवार (प्रचारक) अनुभवात्मक विपणन मेंसमय से कहीं आगे थे। यह एल.पी (लंबे समय तक चलने वाला) और .पी (थोड़े समय तक चलने वाला) विनाइल पर आर.पी.एम (प्रति मिनट रोटेशन) 33 और 1/3, 45 और 78 की गति के साथ, संगीत की विभिन्न अवधि और मिश्रण को परिमार्जन, चयन और सुनने के लिए, एक खुशी थी। वो सभी,  संगीत के स्पष्ट विवरण और सूची के साथ कार्डबोर्ड आवरण में आते थे। उन दिनोंएच.एम.वी रिकॉर्ड प्लेयरविनाइल का एक प्रसिद्ध ब्रांड था। बहुत से लोगों को याद  होगा  कि इसका प्रतिष्ठित  Logo, जिसमें एक कुत्ते को रिकॉर्ड पर गाना सुनते हुए दिखाया गया था ( अगर मैं गलत नहीं समझ रहा तो आज इसे सारेगामा में बदल दिया गया है)। समय के साथ प्रौद्योगिकी  के विकास  और  संगीत का(क्या किसी को कैसेट स्पूल को कसने के लिए पेंसिल का उपयोग करना याद है?)  कैसेट से लेकर  सी.डी से लेकर आईपॉड से लेकर यूट्यूब से लेकर स्मार्टफोन के प्रारूप में इकठ्ठा किया गया है और इसके साथ ही  इसने  हमारी  यादों  और रिदम हाउस  स्मृति के  स्थलों को नष्ट कर दिया है। यह भवन, आज भी काला घोड़ा में स्थित है और इसकी बाहरी दीवारों को गहरे नीले और पीले रंग में देखना एक उदासी भरा आनंद है। 2016 की शुरुआत में, संग्रहालय और जहाँगीर आर्ट गैलरी के  एक अनिवार्य पाक्षिक यात्रा के बादमैंने आखिरी बार उस दुकान से एक सी.डी खरीदी थी। प्रौद्योगिकी के कारण, सदन का व्यवसाय ध्वस्त हो गया है, लेकिन इसकी लय हमारे दिमाग में आज भी बनी हुई है। मुझे उम्मीद है कि महिंद्रा ग्रुप (जो कि बांद्रा महबूब स्टूडियो में एक दशक पहले ब्लूज़ जैज़ संगीत समारोह को प्रायोजित और शुरू किया था ) के आदरणीय प्रमुख ने रिदम हाउस को पुनर्विकास  और इसे एक सांस्कृतिक केंद्र बनाने की बात की। उम्मीद है, यह प्रवर्तन निदेशालय को एक आकर्षक प्रस्ताव देगा, जो बेईमान नीरव मोदी के संपत्तियों की नीलामी कर रहा है (उसने भाग जाने से पहले, अपनी फ्लैगशिप स्टोर के लिए क्रमली परिवार से इसे खरीद लिया था)

विनाइल  रिकॉर्ड पर संगीत सुनने का आनंद चुनिंदा लोगों की  मंडली में,  वापसी  कर रहा है 

लेखन कीड़ा

                 इस बारे में लिखने के लिए बहुत कुछ है कि प्रौद्योगिकी ने कैसे  बड़ी क्रूरता से कई चीजों को निष्क्रिय कर दिया, जो हमारे सुखी यादों का हिस्सा है एक फाउंटेन पेन की सुंदरता और इसे स्याही से भरना या प्लनजर द्वारा स्याही को सोखना, हमारी यादों, स्कूलों और बढ़ती उम्र  का एक अविच्छेद हिस्सा है। मुझे याद है कि मेरे पास बहुत  सारी कलम थीएक हीरो (चीन निर्मित) एक पेलिकन, एक पायलट, एक वाटरमैन और कई ढेर सारे अन्य कलम थे।  हर सप्ताह मैं, उन्हें साफ किया करता था और उन्हें काम करने की स्थिति में रखता था। आह, एक फाउंटेन पेन से लिखने का आनंद इस  दुनिया से बाहर था। मेरे पास एक सभ्य लिखावट थीजो करसिव से अधिक अच्छी थी- और मैं  सिर्फ मजे के लिए इससे नियमित रूप से लिखना पसंद करता था। बॉल प्वाइंट पेन ने उस आनंद पर प्रतिबंध लगा दिया कंप्यूटर, लैपटॉप और सेल फोन ने केवल लिखने की खुशी को, बल्कि इससे अधिक महत्वपूर्ण लिखने की क्षमता को भी मार दिया। और इसके साथ हीहमारे हाथों में मजबूती से  किसी चीज़ को पकड़ने की क्षमता को भी- कई मामलों में, गठिया के स्तर बढ़ने से परिग्रही क्षमता कम हो जाती है। भारी भरकम टेबल टॉप कंप्यूटर और स्क्रीन ने पतले और सस्ते लैपटॉप को रास्ता दिया है। प्रौद्योगिकी, जल्द ही,  इन लैपटॉपों को आसानी से ले जाने के लिए, व्यावहारिक और मोड़ने और रोल करने योग्य बना देगी। स्मार्टफोन ने अपनी सर्वव्यापकता और उपयोगिता, सभी व्यापक और Wfh (घर से काम) या Wfa (कहीं से भी काम) को एक दुःस्वप्न के बजाय एक सुहाना सपना बना दिया है। सिंगल स्क्रीन सिनेमाघरों से लेकर मल्टी स्क्रीन सिनेमाघरों  तकमल्टी स्क्रीन सिनेमाघरों से लेकर  केबल केबल से डीटीएच और  डीटीएच से ओटीटीएस (ओवर दी टॉप  मीडिया सर्विस) तक हमें  एक एकल  यंत्र की सहायता से हमारी पसंद की सतह पर projection के लिए जल्द  रास्ता दे सकता है, मोर्टार और केबल और टेलीविजन सबको ध्वस्त करते हुए।  यह सूची सचमुच अंतहीन हैहमारे जीवन के हर पहलू से।

क्या स्मार्ट फोन का अगला कदम,  आपके सोच को पढ़ना और उसे  टेक्स्ट में परिवर्तित करना  होगा?

                     काशमैंने यह लेख अपने फाउंटेन पेन से कागज के एक टुकड़े पर लिखा होता और संपादित और अंतिम रूप दिया होता (मेरे पास अभी भी दुनिया के ‘मो ब्लाऔर नामिकिस’ के अलावा मेरे कई पुराने फाउंटेन पेन हैं) लेकिन, सच तो यह है कि मैं ऐसा नहीं कर सकतामैं भी प्रौद्योगिकी के लिए बहुत अधिक दत्तक और अनुकूलित बन गया हूंऔर इसमें बुद्धिमानी और आभासित के बीच विरोधाभास निहित है। यह लंबे समय से पहले नहीं होगा,  जब तकनीक मुझे अपने सेलफोन स्क्रीन पर, अपने विचारों को प्रोजेक्ट करने में सक्षम बनाएगी और मुझे कुछ भी लिखने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी। यदि ऐसा होता है, और मुझे लगता है कि यह होगा, तो प्रौद्योगिकी हमारे दिमागों को भी जल्द ही पढ़ सकेगी। तब हमारे पास एक आदर्श तकनीक हो सकती है, लेकिन एक आदर्श हीन समाज होने की संभावना है। इसमें निष्ठुर प्रौद्योगिकी की छलांग और सवारी का रोमांच और खतरा निहित है। 

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,116FollowersFollow
4,490SubscribersSubscribe

Latest Articles